Friday, May 10, 2013

बेल का शर्बत


सामाग्री : -  पाँच  गिलास शर्बत के लिए

गर्मियों मे कुछ ठंडा हो जाए । बेल की तासीर भी ठंडी होती है और ये पौष्टिक भी होता है बनाने मे भी बेहद आसान है। आइए बनाए बेल का स्वास्थ्य वर्धक शर्बत ।


  •     एक  मँझोला पका हुआ बेल 
  •     आधी कटोरी चीनी 
  •      एक चुटकी  इलायची पावडर
  •       पानी पाँच गिलास ,
  •        थोड़ा सा गुलाब जल
  •        बर्फ के टुकड़े इच्छानुसार ।   
  बनाने की विधि :- बेल को तोड़ कर उसका पल्प निकाल लें बीजे साफ कर दें । चीनी घोलें बेल को चीनी के पानी मे मसल कर अच्छी तरह मिलाये । एकसार हो जाने पर छान लें पानी मिला लें। गिलास मे डाले बर्फ के टुकड़े डाल लें और ऊपर से इलायची पावडर बुरक दें अच्छी खुशबू आएगी । लीजिये तैयार है बेल का शर्बत पीजिए और तरावट पाइए ।
Bel kaa sharbat
                               

Ingredients :- 

·         One riped Bel
·         4 table spoon sugar
·         One pinch of cardamom powder
·         Ice cubes
·         5 glass of water, 1 table spoon rose water


How to make :-   
1. Break open the bel and remove the pulp.
2. Soak the pulp in water and mash well .
3. Dissolve the sugar in the water and strain the mixture through a muslin cloth.
4. Discard the pulp.
5. add ice cubes. add rose water .  
6. spray  cardamaom powder, serve chilled in individual glasses.

5 comments:

तुषार राज रस्तोगी said...

बहुत खूब और बेहद स्वादिष्ट शरबत की विधि बताई आपने | शुक्रिया

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शनिवार (11-05-2013) क्योंकि मैं स्त्री थी ( चर्चा मंच- 1241) में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

sanjiv said...

अन्नपूर्णा की कृपा हो तो सुस्वादु व्यंजन मिलते ही रहेंगे. बेल का एक गुण और है उसका लस कानों को बंधने की तासीर रखता है. पुराने ज़माने में जब सीमेंट का अविष्कार नहीं हुआ था, बेल का गूदा और लस चूने में मिलाकर बनाया गया मसाला महलों में लगाया गया जो सैंकड़ों वर्षों बाद भी जा सके तस हैं. संगमरमर जैसी चिकनाहट देना बेल का ही बूता है. कोंक्रीट की छत रिसती हो तो बेल का लॉस दरारों में भर सकते हैं.

सलिल.संजीव@जीमेल.कॉम
दिव्यनर्मदा.ब्लागस्पाट.इन

तेजवानी गिरधर said...

very nice

अरुणा said...

अच्छी लाभदायक जानकार